अंतिम पंघाल विश्व चैम्पियनशिप में एक और खिताब की ओर एक कदम, दो अधिक खिलाड़ियों ने फाइनल तक पहुंचने का किया प्रयास

भारतीय कुश्ती के तीन युवा प्रतिभागी ने विश्व जूनियर कुश्ती चैम्पियनशिप की फाइनल में कदम रखा है। पंघाल ने अपने सेमीफाइनल मुकाबले में रूस की पोलिना लुकिना को हराकर फाइनल के लिए अपनी जगह पक्की की है।

खेल समाचार, कुश्ती, खेल प्रतियोगिता, विश्व चैम्पियनशिप, विश्व जूनियर कुश्ती

जॉर्डन, अम्मान: संगठनात्मक रूप से भारत के तीन उभरते पहलवानों ने गुरुवार को यहां विश्व जूनियर कुश्ती चैम्पियनशिप के फाइनल में अपनी छाप छोड़ी। इसके अलावा, हर्षिता ने सेमीफाइनल मुकाबले में कांस्य पदक जीता। वर्ल्ड रेसलिंग प्रोजेक्ट में विनेश फोगाट की चैलेंजर प्रतियोगिता का नेतृत्व कर रहे पंघाल ने अब तक अपने तीन मुकाबले बिना किसी परेशानी के जीते हैं। गौरतलब है कि यह पहली बार है कि भारत की चार महिला पहलवान विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंची हैं. पंघाल के अलावा, सविता (62 किग्रा) और अखिल कुंडू (65 किग्रा) ने भी अपने-अपने भार वर्ग में फाइनल में पहुंचने के लिए क्वालीफाई कर लिया है।

प्रिया ने बुधवार को 76 किलोग्राम भार वर्ग के फाइनल में प्रवेश किया था। दूसरी ओर, हर्षिता सेमीफाइनल में हार के बाद अब 72 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक के लिए लड़ेंगी। पंघाल ने अपनी पढ़ाई के लिए यात्रा करते हुए फाइनल तक पहुंचने में केवल दो अंक गंवाए हैं। पहले राउंड में उन्होंने पोलैंड की निकोला मोनिका विस्निवस्का को सिर्फ 68 सेकेंड में हरा दिया. इसके बाद, उन्होंने तकनीकी दक्षता के साथ चीन की ज़ुएज़िंग लियांग को हराया और जीत हासिल की।

हिसार की इस पहलवान ने सेमीफाइनल में रूस की पोलिना लुकिना को हराया। अगर शुक्रवार को होने वाले फाइनल में पंघाल विजयी हो जाते हैं तो वह दो विश्व खिताब का गौरव हासिल करने वाली पहली महिला पहलवान बन जाएंगी। अंत में, कुंडू ने 65 किग्रा वर्ग में अपने प्रतिद्वंद्वी को पछाड़ दिया। उन्होंने सेमीफाइनल में रूस की एकातेरिना कोशकिना को 7-5 से हराया। इससे पहले उन्होंने रोमानिया की मारिया मैग्डालेना पेंटिरू को 7-2 से हराया और पोलैंड की एलिज़ा नोवोसाद को हराया।

अंडर-17 विश्व चैंपियन सविता ने 62 किग्रा वर्ग के क्वार्टर फाइनल में जापान की अनुभवी सुजु सासाकी को हराया। उन्होंने सर्बिया के डुंजा लुकिक के खिलाफ आसान जीत के साथ वापसी की थी। सेमीफाइनल में उन्होंने फ्रांस की आइरिस मैथिल्डे थिबॉक्स को हराया। हर्षिता अपना 72 किग्रा सेमीफाइनल मुकाबला तुर्की की बुकरेनाज सार्ट से हार गईं और अब कांस्य पदक के लिए लड़ेंगी। 57 किग्रा वर्ग में केवल रीना ही अपना शुरुआती मुकाबला हारी हैं। यूक्रेन की एलिना फ़िलिपोविच ने उन्हें हराकर फ़ाइनल में जगह बनाई, जिससे भारतीय चैंपियनशिप में दोबारा मौका मिला।

यह भी पढ़ें

Read More Latest News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *