अयोध्या में सरयू नदी पर जटायु क्रूज का आगाज़! किराया और विशेषताएँ जानें

जन्माष्टमी के बाद अयोध्या में रामायण काल की तर्ज पर जटायु क्रूज का महत्वपूर्ण आगमन

जटायु क्रूज

अयोध्या:

राम मंदिर निर्माण के साथ ही अयोध्या विश्व मानचित्र पर अपने धार्मिक और पर्यटन महत्व की ओर बढ़ रही है. अब बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी के बाद भगवान राम की नगरी अयोध्या में सरयू नदी पर जटायु क्रूज की योजना बनाई गई है, जिससे भक्तों को अपनी मानसिक और आध्यात्मिक प्रणाली में सुधार करने में मदद मिलेगी।

जनमाष्टमी के बाद शुरू होगा जटायु क्रूज:

जटायु क्रूज का संचालन जनमाष्टमी के बाद सरयू नदी पर शुरू हो जाएगा। इस क्रूज की खासियत यह है कि इसे दुबई से अयोध्या आने वाले पर्यटकों के लिए अयोध्या के दृश्यों और भगवान राम के समय को मिलाकर तैयार किया गया है। क्रूज की सभी दिशाओं में भगवान राम के जीवन पर आधारित चित्रण हैं, जिनमें बैठने के बाद भक्त भक्ति से भर जाएंगे।

रामायण काल के दृश्यों के साथ 18 किमी की यात्रा:

इस जटायु क्रूज में आपको अत्याधुनिक सुविधाएं मिलेंगी और आप एक समय में लगभग 100 भक्तों को समायोजित कर सकेंगे। यह क्रूज सरयू के नए घाट से गुप्ता घाट तक करीब 18 किमी की यात्रा करेगा, जिसमें श्रद्धालुओं को भगवान राम की नगरी को समझने और सरयू की जलधारा का आनंद लेने का मौका मिलेगा. किराया प्रति व्यक्ति 300 रुपये होगा और यात्रा के दौरान कई तरह के स्नैक्स भी उपलब्ध कराए जाएंगे।

किराया:

जटायु क्रूज के निदेशक राहुल ने बताया कि यह क्रूज डबल इंजन वाला है और इसमें एक बार में 100 श्रद्धालु बैठ सकते हैं। इसमें फ्लावर एसी सिस्टम है और यह कम पानी में भी चल सकता है। किराया केवल ₹300 प्रति व्यक्ति है, जिससे श्रद्धालु और पर्यटक आसानी से इस आदर्श स्थान का आनंद ले सकते हैं।

लॉन्चिंग के साथ और भी बदलाव:

अयोध्या में पर्यटन के साथ-साथ धार्मिक और सांस्कृतिक गतिविधियों में बढ़ोतरी देखने के लिए कमिश्नर गौरव दयाल ने इस नए क्रूज से अयोध्या को और भी आकर्षक बनाने की योजना बनाई है। इससे पर्यटकों को अधिक सुविधाएं मिलेंगी और अयोध्या के विकास को बढ़ावा मिलेगा।

यह नया जटायु क्रूज अयोध्या को एक नई धार्मिक और पर्यटक गंगा के रूप में प्रस्तुत करेगा, जिससे यह स्थान दुनिया भर में प्रसिद्ध हो जाएगा।

यह भी पढ़ें

Read More Latest News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *