आम जनता के लिए तेल की कीमतें क्यों नहीं घट रहीं? सरकारी तेल कंपनियों का मुनाफा बढ़ाता है कीमतों का कम न होना

क्रूड ऑयल में सस्ती होने के बावजूद, क्यों नहीं हुईं पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती?

नई दिल्ली:

देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें अब तक स्थिर बनी हुई हैं. कई महीनों से कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के बावजूद तेल कंपनियां अभी तक इसका फायदा आम जनता को नहीं दे पाई हैं। इसके बावजूद सरकारी तेल कंपनियां कीमतों में कोई कटौती नहीं कर रही हैं.

पिछले महीनों में कच्चे तेल की कीमतों में कमी के बावजूद तेल कंपनियों को भारी मुनाफा हुआ है। अप्रैल में केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी घटा दी थी, लेकिन उसके बाद से तेल कंपनियां कीमतों में कोई बदलाव नहीं कर रही हैं. देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें स्थिर बनी हुई हैं, जबकि कच्चे तेल की कीमतें बढ़ रही हैं।

वैश्विक बेंचमार्क ब्रेंट कच्चे तेल की कीमतें अप्रैल के बाद पहली बार 81 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर कारोबार कर रही हैं। ओपेक देशों के उत्पादन में कटौती और डॉलर के कमजोर होने से कच्चे तेल की कीमत में बढ़ोतरी हुई है। इसके बावजूद तेल कंपनियां देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई कटौती नहीं कर रही हैं।

इसके अलावा, सरकार घरेलू कच्चे तेल पर अप्रत्याशित लाभ कर को फिर से लागू करने की योजना बना रही है। इससे पहले मई में इस टैक्स को शून्य कर दिया गया था, लेकिन अब तेल की कीमतें फिर से बढ़ गई हैं. इससे तेल कंपनियों को अप्रत्याशित लाभ कर का भुगतान करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा, जिससे उनका मुनाफा कम हो जाएगा और कीमतें कम करने की संभावना कम हो जाएगी।

सरकार का यह कदम आम जनता के लिए चिंता का कारण बन रहा है. तेल कंपनियां कम मुनाफे के कारण कीमतों में कटौती नहीं कर रही हैं और इससे आम जनता पर भारी बोझ पड़ रहा है। अगर केंद्र सरकार तेल कंपनियों को कीमतों में कटौती का आदेश दे तो लोगों को राहत मिल सकती है. हालाँकि, इसमें तेल बाज़ार की स्थिरता का भी ध्यान रखना होगा।

पिछले साल सरकार ने मई में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कटौती की थी, जिससे पेट्रोल पर कुल 13 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 16 रुपये प्रति लीटर की कटौती हुई थी। उम्मीद है कि सरकार इस बार भी ऐसा ही करेगी और आम जनता को राहत देगी.

यह भी पढ़ें

Read More Latest News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *