जॉर्डन-इजराइल संबंध: ईरान के लिए जॉर्डन का सहयोग एक महत्वपूर्ण चुनौती!

जॉर्डन किंग अब्दुल्लाह ने ईरान के हमले के बाद इजराइल का साथ दिया, यहाँ जानें क्यों!

जॉर्डन-इजराइल संबंध

जॉर्डन-इजराइल संबंध:

इजराइल पर हमले के बाद इलाके में अमेरिका और इजराइली वायु रक्षा प्रणालियों को तैनात किया गया था। आईडीएफ के मुताबिक, ईरान के हमलावर ड्रोन और मिसाइलों को नष्ट करने में इजरायल ने मदद की. इसके अतिरिक्त, अमेरिका, ब्रिटेन और जॉर्डन ने इज़राइल के साथ खड़े होकर ईरान के खिलाफ रैली की।

जॉर्डन, जिसे पहले इजराइल का विरोधी माना जाता था, अब ईरान के खिलाफ एक महत्वपूर्ण सहयोगी बन गया है। जॉर्डन की भौगोलिक स्थिति और संघर्ष क्षेत्रों के आसपास के तनाव इसे एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी बनाते हैं।

इस हमले में जॉर्डन का सहयोग ईरान के लिए एक अहम संकेत है. जबकि जॉर्डन और इजराइल के बीच शांति समझौता हो चुका है, ऐसे में जॉर्डन ने अपनी सुरक्षा के लिए ईरान के खिलाफ इजराइल का साथ दिया है.

इस नए रिश्ते को जाहिर करते हुए जॉर्डन ने कहा कि उसने इजराइल की मदद के लिए नहीं बल्कि आत्मरक्षा में ईरानी ड्रोन को रोका था. इससे साफ है कि वह दोनों पार्टियों के बीच संतुलन बनाए हुए हैं.

जॉर्डन की इस नई भूमिका में राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी उससे संपर्क स्थापित किया है, जिससे ईरान के लिए नई चुनौतियां खड़ी हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें

Read More Latest News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *