प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना: मोदी सरकार की नई पहल, शिल्पकारों को बढ़ेगा लाभ

मोदी सरकार द्वारा 17 सितंबर को पेश की जाएगी यह उपयोगी योजना, जानें योजना के बारे में

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना (पीएमवीवाई):

सरकार ने पारंपरिक कारीगरों और शिल्पकारों की समृद्धि को बढ़ावा देने के उद्देश्य से एक नई योजना की घोषणा की है। ‘प्रधानमंत्री विश्वकर्मा’ योजना को लागू करने के लिए सरकार ने राज्यों, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों और राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति (एसएलबीसी) के वरिष्ठ अधिकारियों की एक बैठक आयोजित की है। इस योजना का उद्घाटन अगले माह होने की उम्मीद है.

योजना 17 सितंबर को शुरू हुई

योजना का उद्देश्य पारंपरिक कारीगरों और शिल्पकारों को सहायता प्रदान करना है। इसके लिए कुल 13,000 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया है. ‘प्रधानमंत्री विश्वकर्मा’ योजना 17 सितंबर को शुरू की जाएगी, और इसे तीन मंत्रालयों – उद्यमिता और विकास मंत्रालय, कौशल विकास मंत्रालय और वित्त मंत्रालय के सहयोग से प्रबंधित किया जाएगा। इस योजना का लक्ष्य चालू वित्तीय वर्ष में तीन लाख से अधिक लाभार्थियों को जोड़ना है।

कौशल विकास हेतु प्रशिक्षण

योजना के तहत पारंपरिक कारीगरों और शिल्पकारों को उनके कौशल में सुधार करने के लिए 4-5 दिनों का प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। इस प्रशिक्षण के बाद वे ऋण लेने के पात्र होंगे।

कम ब्याज पर ऋण

योजना के तहत कारीगरों को पहली किस्त में 1 लाख रुपये और दूसरी किस्त में 2 लाख रुपये का ऋण उपलब्ध कराया जाएगा। इस लोन की ब्याज दर भी बहुत कम, 5 फीसदी से भी कम होगी.

इस प्रस्तावित योजना को कैबिनेट की मंजूरी पहले ही मिल चुकी है. केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा है कि इस योजना के तहत शिल्पकारों को पहली किस्त में 1 लाख रुपये और दूसरी किस्त में 2 लाख रुपये का ऋण उपलब्ध कराया जाएगा. इस लोन पर ब्याज दर भी बहुत कम, 5 फीसदी से भी कम होगी.

यह भी पढ़ें

Read More Latest News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *