भारत-रूस कच्चे तेल सौदे की मुद्रा विवाद: नए बातचीत की संभावना

संसदीय समिति ने चिंता जताई, विदेश मंत्रियों के बीच द्विपक्षीय बैठक का आयोजन

भारत-रूस कच्चे तेल सौदे

भारत-रूस कच्चे तेल सौदे की मुद्रा विवाद:

कच्चे तेल के सौदे को लेकर भारत और रूस के बीच नई मुद्रा विवाद की आशंका है, जिस पर हाल ही में एक संसदीय समिति ने चिंता जताई है. रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव और भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर के बीच बुधवार को होने वाली द्विपक्षीय बैठक में यह मुद्दा प्रमुखता से उठेगा. भारत ने रूस से कच्चा तेल आयात करना शुरू कर दिया है, लेकिन इसकी कीमत रुपये में नहीं होने से हलचल मची हुई है.

कुछ दिन पहले खबर आई थी कि रूस भारतीय कंपनियों से चीनी मुद्रा में भुगतान स्वीकार करने को तैयार है, जिससे मामला और भी गंभीर हो गया है। इसके बावजूद आरबीआई ने जुलाई 2022 में रुपये में आयात भुगतान की इजाजत देने का नियम लागू किया था, लेकिन रूस इसे स्वीकार नहीं कर रहा है.

दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच बैठक में नए विकल्पों पर चर्चा हो सकती है, जिससे इस मुद्दे का समाधान निकल सकता है. रूसी बैंकों को भारतीय बैंकों में वोस्ट्रो खाते खोलने की अनुमति दी गई है, लेकिन इसमें कई तकनीकी और नियमितता संबंधी चुनौतियां हैं। इस बीच इस बात की भी कवायद हो सकती है कि दोनों देशों के बीच व्यापार में रुपये और रूबल की मुद्रा विवाद को सुलझाने का कोई समाधान निकलेगा या नहीं.

यह भी पढ़ें

Read More Latest News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *