लोन पर लगने वाले अतिरिक्त शुल्कों का खुलासा: बैंकों को देनी होगी सारी जानकारी

बैंक ग्राहकों को अब लोन के अतिरिक्त चार्जों की बिल्कुल स्पष्ट जानकारी देनी होगी। आईआरडीएनए द्वारा किया गया निर्णय।

लोन पर लगने वाले अतिरिक्त शुल्कों का खुलासा:

अगर आप पर लोन है या आप लोन के लिए आवेदन करने की सोच रहे हैं तो यह खबर आपके लिए महत्वपूर्ण है। IRDNA ने बैंकों को अक्टूबर से रिटेल और एमएसएमई लोन लेने वाले ग्राहकों को लोन पर ब्याज और अन्य शुल्कों की पूरी जानकारी देने का निर्देश दिया है. इसके लिए IRDNA ने KFS यानी ‘फैक्ट स्टेटमेंट रूल’ लागू किया है.

KFS क्या है और इसे कब लागू किया जाएगा? यह एक मानकीकृत प्रारूप है जो ऋण समझौते के प्रमुख तथ्यों का विवरण प्रदान करता है। इसे आर्थिक संस्थानों को ग्राहकों को अधिक पारदर्शिता प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह निर्देश अक्टूबर, 2024 तक लागू किया जाना है और इसमें मौजूदा और नए ऋण शामिल होंगे।

इसके अतिरिक्त, तीसरे पक्ष सेवा प्रदाता द्वारा लिया जाने वाला बीमा और कानूनी शुल्क भी ऋण के हिस्से के रूप में शामिल किया जाएगा। और उधारकर्ता की स्पष्ट सहमति के बिना क्रेडिट कार्ड पर कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लगाया जाएगा।

इन निर्देशों का पालन करने से ग्राहकों को अतिरिक्त ऋण शुल्क के बारे में स्पष्टता मिलेगी और उन्हें बेहतर वित्तीय निर्णय लेने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें

Read More Latest News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *