समझाइए: हजारों करोड़ का GST फ्रॉड, इनपुट टैक्स क्रेडिट क्या है? सरकार को कैसे लगी चपत

GST फ्रॉड खबर: जून में फिर हुआ हजारों करोड़ का GST फ्रॉड, फर्जी इनवॉयस से बड़ा गिरोह उजागर

GST फ्रॉड

क्या है इनपुट टैक्स क्रेडिट: नोएडा पुलिस ने हजारों करोड़ के जीएसटी फर्जीवाड़े का खुलासा किया है. पुलिस के मुताबिक, आरोपी फर्जी कंपनियों के नाम पर विदेश से जीएसटी का इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) लेते थे, जिससे हजारों करोड़ का चूना लगता था.

गतिविधि: आठ आरोपियों के बैंक खातों में 3 करोड़ रुपये की राशि फ्रीज कर दी गई है, जबकि इस मामले में सभी चार आरोपी गिरफ्तार हैं. ये आरोपी पिछले चार साल से सरकार को हजारों करोड़ का चूना लगा रहे थे.

गैंग का पता: जून में भी एक ऐसा ही गैंग सामने आया था जो जीएसटी फ्रॉड कर सरकार को हजारों करोड़ का चूना लगा रहा था. पुलिस ने इस गिरोह के 25 लोगों को गिरफ्तार किया था.

इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी): इनपुट टैक्स क्रेडिट वह क्रेडिट है जो किसी निर्माता या सेवा प्रदाता को वस्तुओं और सेवाओं के इनपुट पर कर का भुगतान करने के लिए मिलता है, जिसे उसे अंतिम आउटपुट पर कर के रूप में भुगतान करना होता है।

गिरोह की तकनीक: आरोपी गिरोह ने फर्जी कंपनियों के नाम पर चालान जारी करके सरकार से जीएसटी का रिफंड प्राप्त किया। इन कंपनियों का कारोबार अलग-अलग देशों का दिखाया गया था और ये लोग इसे IEC दिखाकर सरकार को चूना लगा रहे थे.

इनपुट टैक्स क्रेडिट का महत्व: यह प्रणाली व्यवसायों को उनके द्वारा खरीदी गई वस्तुओं और सेवाओं पर भुगतान किए गए कर का पूरा लाभ प्राप्त करने में मदद करती है, जिससे उनकी लागत कम होती है और प्रतिस्पर्धा भी बढ़ती है।

सरकार को चूना: आरोपी गिरोह ने फर्जी कंपनियों के नाम पर हजारों करोड़ के राजस्व का चूना लगाया, जिससे सरकार को भारी नुकसान हुआ. यह गिरोह लोहा, प्लास्टिक, स्क्रैप, कपड़ा, खिलौने और अन्य टेक्सटाइल से जुड़ी फर्जी कंपनियों का कारोबार कर रहा था.

यह भी पढ़ें

Read More Latest News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *